Breaking News

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

शिक्षक नियोजन का कहाँ फंस गया है पेंच पूर्व से जारी शेड्यूल में फिर हो सकता है बदलाव......!

 



शिक्षक नियोजन का कहाँ फंस गया है पेंच पूर्व से जारी शेड्यूल में फिर हो सकता है बदलाव......!


पटना ( संवादाता/ बिहार मिरर)


बिहार में शिक्षक नियोजन के लिए राज्य सरकार की तरफ से जो नया सहयोग जारी किया गया है उसमें एक बार फिर से बदलाव हो सकता है। शिक्षा विभाग में 3 दिन पहले प्रारंभिक शिक्षकों की बहाली के लिए नियोजन इकाइयों में काउंसलिंग की तारीख घोषित की थी। लेकिन इस शेड्यूल में एक बार फिर से बदलाव हो सकता है। इसकी वजह है पंचायत चुनाव है। पंचायत चुनाव के कार्यक्रम को ध्यान में रखते हुए ही नियोजन का शेड्यूल जारी किया गया था लेकिन अब जिस मामले को लेकर पेच फंसा है वह पंचायत चुनाव की मतगणना से जुड़ा हुआ है

पंचायत चुनाव की मतगणना की तारीख और नगर निकायों के लिए काउंसलिंग की तारीख टकरा गई है। ऐसा होने पर कई जिलों ने काउंसलिंग कराने में अपनी असमर्थता जताने अभी से शुरू कर दी है। मधुबनी समेत कई जिलों के शिक्षा अधिकारियों ने इस बारे में मुख्यालय को जानकारी दी है। आपको बता दें कि अपर मुख्य सचिव संजय कुमार ने प्रारंभिक शिक्षकों की काउंसलिंग के लिए तीसरे चरण की तारीख 17 नवंबर को घोषित की थी। नगर निकायों में छठी और आठवीं क्लास के लिए पहले दिन सामाजिक विज्ञान दूसरे दिन गणित तीसरे दिन विज्ञान और भाषा विषय जबकि तीसरे दिन पहली से पांचवी के लिए शिक्षकों का चयन होना है। पंचायत चुनाव की मतगणना को लेकर कम से कम 2 दिन ऐसे हैं जब शेड्यूल में बदलाव किया जा सकता है। 14 और 15 दिसंबर को जिलों में नियोजन से जोड़ को लेकर परेशानी खड़ी हो गई है

शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी ने भी इस बाबत संकेत दिए हैं कि नियोजन के शेड्यूल में थोड़ा बदलाव किया जा सकता है। शिक्षा मंत्री ने कहा है कि कुछ जगह पर स्थानीय पदाधिकारियों के पंचायत चुनाव में व्यस्त होने और मतगणना को लेकर कुछ परेशानी सामने आई है। प्राथमिक विद्यालय और जिला प्रशासन से संपर्क कर इस मामले में आवश्यक कदम उठाया जाएगा। अगर आवश्यक हुआ तो नियोजन के कार्यक्रम में बदलाव किया जाएगा। हालांकि नियोजन के पूरे से जून को लेकर 17, 18, 20 दिसंबर को पंचायत नियोजन इकाइयों में होने वाली काउंसलिंग पर कोई परेशानी नहीं है। पंचायत चुनाव के अंतिम चरण में 30 जिलों में 38 प्रखंडों के अंदर मतदान होने हैं और यहां 14 और 15 दिसंबर को भी चुनावी प्रक्रिया जारी रहने वाली है।